Connect with us
https://qnewsindia.com/wp-content/uploads/2023/07/en.png.webp

उत्तर प्रदेश

समाजवादी पार्टी सरकार में रहे पूर्व मंत्री के बिगड़े बोल

Avatar photo

Published

on

Spread the love

समाजवादी पार्टी सरकार में रहे पूर्व मंत्री के बिगड़े बोल , गृहमंत्री को बताया तड़ीपार कहा हमारे हवाले कर दो नंगा कर चप्पलों से मारेंगे , कहा मणिपुर वाले आदिवासी तमंचे , बन्दूखे खरीदे और बहन बेटियों को नंगा घुमाने वालो को गोली मार दे या ज़िंदा जला डाले में उनके साथ हूँ , बाबा बागेश्वर धाम पर भी अभद्र टिप्पड़ी की

 

समाजवादी पार्टी की सरकार में मंत्री रहे मुकेश सिद्धार्थ का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है । वायरल वीडियो में पूर्व मंत्री न सिर्फ देश के गृहमंत्री , प्रधानमंत्री बल्कि और राष्ट्रपति तक पर अशोभनीय और अभद्र टिप्पणी करते हुए नजर आ रहे हैं । वायरल वीडियो में साफ तौर पर देखा जा सकता है कि पूर्व मंत्री मुकेश सिद्धार्थ कार्यकर्ताओं से कह रहे हैं कि जिस देश में महिलाओं को नंगा घुमाया गया हो उस देश की राष्ट्रपति महिला है और राष्ट्रपति ऐसा घिनौना कृत्य करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए क्या दूसरी घटना का इंतजार कर रही हैं । वहीं उन्होंने राष्ट्रपति पर अशोभनीय टिप्पणी करते हुए कहा या तो राष्ट्रपति अपने पद से इस्तीफा दे दें नहीं तो डूब कर मर जाएं या फिर अपने घर बैठ जाएं ।

इतना कहने के बाद भी पूर्व मंत्री की जुबान नहीं रुकी तो उन्होंने देश के गृहमंत्री पर भी जमकर कटाक्ष किया । वायरल वीडियो में देखा जा सकता है कि पूर्व मंत्री देश के गृहमंत्री अमित शाह को तड़ीपार कह रहे हैं । साथ ही वो मणिपुर में हुई घटना के लिए देश के गृहमंत्री को जिम्मेदार बताते हुए कह रहे हैं कि या तो गृहमंत्री को जेल भेजो या फिर गृहमंत्री को हमारे हवाले कर दो हम उसको नंगा करके चप्पलों से पीटेंगे ।


वहीं वायरल वीडियो में पूर्व मंत्री कह रहे है कि मणिपुर के आदिवासियों की बहन बेटियों को नंगा कर घुमाया गया और अब उस समुदाय के पास कुछ नहीं बचा है और अब इस समुदाय को जीना है तो मरना सीखना होगा । वहीं पूर्व मंत्री ने विवादित बयान देते हुए कहा कि मणिपुर के आदिवासी तमंचे और बंदूख खरीदें और जिन्होंने उनकी बहन बेटियों को नंगा किया उन्हें सरेआम गोली मार दें और जिंदा जला डालें और ऐसा करने पर मैं इनका साथ दूंगा ।

वहीं पूर्व मंत्री ने बाबा बागेश्वर धाम पर भी कटाक्ष किया उन्होंने कहा कि उनका बेटा छुट्टा कुंवारा है और बागेश्वर धाम अपनी बहन से मेरे बेटे की शादी करा दे तो हम उन्हें बधाई देंगे । साथ ही उन्होंने धमकी भरे लहजे में अभद्र टिप्पणी करते हुए कहा कि उनके द्वारा पश्चिम उत्तर प्रदेश में चमार कहकर दिखा दे तो मुंह में पेशाब कर दिया जाएगा ।

वही अपनी सरकार में मंत्री रहे मुकेश सिद्धार्थ के बचाव में समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने कहा कि उन्होंने कुछ बोल दिया होगा और वो हमारी पार्टी में नए आए हैं और हम उन्हें ट्रेनिंग करा देंगे ।

उत्तर प्रदेश

बागपत के मौहल्ला देशराज की मलिन बस्ती में चलाया गया स्वच्छता अभियान

Avatar photo

Published

on

Spread the love

मेरठ। स्वच्छता ही सेवा’ पखवाड़ा के अन्तर्गत “एक तारीख एक घण्टा स्वच्छता के लिये कार्यक्रम के आयोजन हेतु जनपद प्रभारी मंत्री,  जसवंत सिंह सैनी जी,  राज्य मंत्री संसदीय कार्य एवं औद्योगिक विकास विभाग उप्र व जनपद नोडल अधिकारी,चैत्रा वी०, प्रबन्ध निदेशक, पीवीवीएनएल व जिलाधिकारी, जनपद- बागपत,  जितेन्द्र प्रताप सिंह एवं अन्य जनपदीय अधिकारियों ने देशराज मौहल्ला, मलिन बस्ती व पक्का घाट पर “स्वच्छता ही सेवा” पखवाड़े के अन्तर्गत एक अक्टूबर को एक घण्टा स्वच्छता अभियान कार्यक्रम जनपद में चलाया गया। जिसमें सभी नागरिकों द्वारा सामूहिक रूप से एक घण्टा श्रमदान किया गया। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी  की जयन्ती की पूर्व संध्या पर एक स्वच्छांजलि के रूप में सफल कार्यक्रम का आयोजन एक तारीख एक घण्टा स्वच्छता के लिए हर गांव एवं नगर निकाय आदि स्थलों पर किया गया।

नोडल अधिकारी द्वारा 33/11 के0वी0 विद्युत उपकेन्द्र पुरा महादेव पर 33 के0वी0 क्षतिग्रस्त जम्फर के प्रतिस्थापन करते हुए निरीक्षण किया गया और अधिकारियों को नियमानुसार शटडाउन देने एवं लाइन स्टाफ को सुरक्षा के मद्देनजर लाईनों पर कार्य करते समय सभी सेफ्टी मापदण्ड अपनाये जाने के निर्देश दिए।

नोडल अधिकारी,  चैत्रा वी० के द्वारा जनपद में ऐतिहासिक परशुरामेश्वर महादेव मन्दिर पर पहुंचकर स्व्च्छता ही सेवा कार्यक्रम के अन्तर्गत स्वयं श्रमदान कर मन्दिर की साफ-सफाई का निरीक्षण किया गया तथा मन्दिर परिसर में उपस्थित मन्दिर कमेटी / ग्राम वासियों / श्रद्धालुओं को स्वच्छता बनाये रखने हेतु शपथ दिलाई गई। जिसमें  अनुराग अग्रवाल, मुख्य अभियन्ता (वितरण), मेरठ क्षेत्र, मेरठ, निकेत वर्मा, उपजिलाधिकारी, बागपत, अमित त्यागी, डी.पी.आर.ओ. बागपत,  सुनील कुमार, अधीक्षण अभियन्ता, विद्युत वितरण मण्डल – बागपत,  अमर सिंह, अधिशासी अभियन्ता, विद्युत वितरण खण्ड- प्रथम, बागपत, आर.पी. सिंह, विद्युत वितरण खण्ड – द्वितीय, बागपत इत्यादि भी उपस्थित रहे।

Continue Reading

उत्तर प्रदेश

मुस्लिम के बाद दलित वोटबैंक भी छिटका? घोसी उपचुनाव से मायावती को बड़ा संदेश

Avatar photo

Published

on

Spread the love

घोसी विधानसभा उपचुनाव लड़ना बसपा की राजनीतिक सूझबूझ वाला रहा या नुकसानदायक यह तो समय बताएगा, पर चुनावी परिणामों ने यह साफ कर दिया है कि मुस्लिम के साथ दलित मतदाता ने सपा के साथ जाने में परहेज नहीं किया।बसपा सुप्रीमो मायावती हर मौके पर दलितों के साथ मुस्लिमों को साधती रहती हैं और यह बताने की कोशिश करती हैं कि भाजपा से मुकबला वही कर सकती हैं, मगर घोसी उपचुनाव के परिणाम से बसपा की मुस्लिम-दलित वोट बैंक पर पकड़ कमजोर होती दिखी। घोसी उपचुनाव परिणाम कहीं न कहीं मायावती के लिए भी संदेश गया है।

वर्ष 2022 में बसपा रही तीसरे नंबर पर

घोसी विधानसभा सीट पर 4.24 लाख से अधिक मतदाता हैं। इनमें दलित 71 हजार और मुस्लिम 86 हजार हैं। मायावती ने इसी समीकरण को ध्यान में रखते हुए वर्ष 2022 के विधानसभा चुनाव में मुस्लिम उम्मीदवार वसीम इकबाल पर दांव लगाया था। वसीम इस चुनाव में 54248 वोट पाकर तीसरे नंबर पर थे। इससे साफ है कि इस चुनाव में भी बसपा को मुस्लिम और दलित वोट पूरा नहीं मिला। इस चुनाव में सपा ने जीत दर्ज की थी। घोसी उपचुनाव में भी यही वोट निर्णायक साबित हुए।

बसपा से निकलने वालों ने बनाया समीकरण

घोसी विधानसभा उपचुनाव में सपा मुखिया अखिलेश ने बसपा से निकल कर साथ आने वालों को मोर्चे पर लगाया, जिससे दलित वोट बैंक को अपने पाले में लाया जा सके और लोकसभा चुनाव के लिए दिए गए पीडीए फार्मूले को सच साबित किया जा सके। देखा जाए तो अखिलेश का यह फार्मूले पर सफल होते दिखे। इस विधानसभा सीट पर दलित मतों में कोरी, पासी और सोनकर जातियां हैं। परिणाम बता रहे हैं कि कोरी और पासी जातियों ने सपा का साथ दिया।

उपचुनाव से बड़ा संकेत

देश में अगले साल लोकसभा चुनाव होना है। देश में यह चुनाव एनडीए बनाम इंडिया के बीच होने वाला है। बसपा इन दोनों गठबंधनों से अलग है। बसपा चाहती थी कि उनके कॉडर के लोग घोसी विधानसभा चुनाव के मतदान से किनारा कर लें, जिससे यह साबित हो जाए कि वो उनके साथ है। मगर ऐसा न होने से आने भविष्य के चुनावी समीकरण का संकेत भी हो सकता है।

Continue Reading

उत्तर प्रदेश

अधिवक्ताओं पर दर्ज मुकदमों को खत्म करने की मांग , हापुड़ में लाठी चार्ज केे विरोध में वकीलों का प्रदर्शन

Avatar photo

Published

on

Spread the love

अम्बेडकरनगर। हापुड़ में अधिवक्ताओं के ऊपर हुए बर्बरता पूर्वक हुए लाठी चार्ज के विरोध में बार काउंसिल ऑफ उत्तर प्रदेश के आह्वान पर बार एसोसिएशन एवं तहसील के अधिवक्ताओं ने सोमवार से तीन दिवसीय हड़ताल शुरू किया था। इसी क्रम में मंगलवार को बार एसोसिएशन अध्यक्ष संजय कुमार त्रिपाठी और  सचिव हरिगोविन्द यादव की अध्यक्षता में आयोजित धरना-प्रदर्शन में अधिवक्ताओं ने घटना की निंदा करते सैकड़ो की संख्या पर सड़क पर उतर कर प्रदर्शन किया।

बार अध्यक्ष संजय कुमार त्रिपाठी ने कहा कि घटना की जितनी निंदा की जाए , कम है। उन्होंने डीएम हापुड़ एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक का स्थानान्तरण करने, लाठी चार्ज करने वाले पुलिसकर्मियों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज करने और दर्ज फर्जी मुकदमों को खत्म किए जाने की मांग किया। पूर्व अध्यक्ष डीपी सिंह ने एडवोकेट्स प्राटेक्शन एक्ट को लागू करने की मांग करते हुए हापुड़ की घटना में घायल अधिवक्ताओं को तुरन्त अहेतुक सहायता देने की मांग सीएम से किया।

बार एसोसिएशन के आवाहन पर वरिष्ठ उपाध्यक्ष देव प्रकाश पांडेय डीपी सिंह ,महेन्द्र सिंह ,सुनील श्रीवास्तव, मनोज पांडेय ,धीरज कुमार पांडेय, मनीष मिश्र ,दिवाकर शुक्ला ,पंकज तिवारी, अतुल तिवारी, अनिल तिवारी, शिवाकांत पांडेय, अंबिका सिंह, सुरेन्द्र यादव, दिलीप तिवारी, कपिल देव, इंद्रमणि शुक्ला, दिलीप मिश्र आदि तमाम अधिवक्ताओं ने जोरदार प्रदर्शन किया।

अधिवक्ताओं ने मांग उठाई है कि हापुड़ के  जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक के स्थानांतरण और दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जाए।अधिवक्ताओं के खिलाफ दर्ज मुकदमे वापस लिए जाने और एडवोकेट प्रोटेक्शन एक्ट यूपी में लागू किए जाने की भी आवाज उठाई गई। इसके साथ ही, परिसर में उत्तर प्रदेश पुलिस महानिदेशक का पुतला भी फूंका गया।

Continue Reading

Trending

Updates